Card image cap

सत्ता

मोह से भरा हुआ इंसान एक सपने कि तरह हैं,
यह तब तक ही सच लगता है,
जब तक वह अज्ञान की नींद में सो रहे होते है,
जब उनकी नींद खुलती है,
तो इसकी कोई सत्ता नही रह जाती है |

Adi Shankaracharya