औकात

औकात

छेड़े इस शेर को,
है किसी की इतनी औकात,
गर्दिश में घेर लेते हैं
गीदड़ भी शेर को।